प्रस्तावना


गोपाल लाल मीना
अपर पुलिस महानिदेशक/ महानिरीक्षक कारागार विभाग


           पुलिस एवं न्यायपालिका की भाँति कारागार–व्यवस्था आपराधिक न्याय प्रणाली का उपयोगी एवं महत्वपूर्ण अंग है। शान्ति व्यवस्था एवं कानून के शासन की स्थापना में योगदान करके समाज में सन्तुलन स्थापित करने में कारागारों की महत्वपूर्ण एवं उपयोगी भूमिका है। सभ्यता के विकास एवं सामाजिक परिवर्तन के फलस्वरूप कारागारों का भौतिक एवं कार्यात्मक स्वरूप, अपेक्षायें एवं उद्देश्य निरन्तर प्रगतिशील रहा है। कारागार व्यवस्था का प्रमुख उद्देश्य बंदियों की सुरक्षित निरूद्धि सुनिश्चित करते हुए उन्हें नैतिक शिक्षा एवं व्यावसायिक प्रशिक्षण देते हुये उनमें अपराध बोध व अपराध की मानसिकता को न्यूनतम स्तर पर लाते हुये उनके पुनर्वासन में सहयोग देना है, ताकि वह निर्धारित सजा काटकर समाज की मुख्य धारा में सम्मिलित हो सकें व अपराध की ओर पुन: प्रवृत्त न हों। अत: कारागारों में जहां एक ओर बंदियों की सुरक्षित निरूद्धि हेतु सुरक्षा व्यवस्था का सुदृढ़ीकरण व संचार साधनों का विकास किया जा रहा है, वहीं दूसरी ओर बंदियों के सुधार एवं पुनर्वास के लिए अनेक बहुआयामी व प्रगतिशील कार्यक्रमों का निरन्तर संचालन भी किया जा रहा है। शासन की वर्तमान कल्याणकारी नीति के अन्तर्गत बंदियों के लिए समुचित स्वास्थ्य परीक्षण व उपचार, स्वच्छता, शुद्ध पेयजलापूर्ति, व्यावहारिक कार्य प्रशिक्षण, शिक्षा, महिला बन्दियों हेतु विशेष व्यवस्था तथा उनके छ: वर्ष से कम के बच्चों की देख–रेख एवं रहन–सहन के स्तर में अपेक्षित सुधार की दिशा में अनेक सक्रिय प्रयास किये जा रहे हैं। विभाग के क्रिया–कलापों में बंदी सुधार को रेखांकित करने के उद्देश्य से विभाग का नाम बदल कर शासन स्तर पर गृह (कारागार) के स्थान पर ‘कारागार प्रशासन एवं सुधार’ एवं विभागीय स्तर पर कारागार–विभाग के स्थान पर ‘कारागार प्रशासन एवं सुधार सेवाएं’ किया गया है।

उद्देश्य

  • कारागारों में बन्दियों का सुरक्षित रख रखाव

  • बंदी सुधार, शिक्षा, व्यावसायिक प्रशिक्षण एवं पुर्नवास

  • बंदियों के मानव अधिकारों की सुरक्षा

  • बंदियों के खान–पान एवं रहन–सहन में सुधार

  • बंदी चिकित्सा एवं स्वास्थ्य की व्यवस्था का सुदृढ़ीकरण

  • कारागार सुरक्षा व्यवस्था का सुदृढ़ीकरण

  • जिला कारागारों का निर्माण एवं बैरकों का निर्माण/नवीनीकरण

  • लोक अदालतों का आयोजन एवं बंदियों को नि:शुल्क विधिक सहायता

  • चिकित्सा व्यवस्था में सुधार

  • कारागारों के रसोई घरों का आधुनिकीकरण

  • बंदियों को व्यावसायिक प्रशिक्षण एवं देय पारिश्रमिक की दरों में वृद्धि

  • सुरक्षित मुलाकात गृह निर्माण

  • बंदियों की सुरक्षा एवं संचार व्यवस्था का सुदृढ़ीकरण

  • कारागारों में साक्षरता अभियान

  • कारागारों में बंदियों के लिये कम्प्यूटर प्रशिक्षण

कारागार की संस्थाएं